इंटरनेट क्या है | इंटरनेट का मालिक कौन है |

Internet

इंटरनेट क्या है | इंटरनेट का मालिक कौन है |

internet kya hai in english

आज इंटरनेट ने पुरे विश्व को अपने चपेट मे ले लिया है | ये एक ऐसा माध्यम है |

जिससे बिना weapon के पुरा विश्व की जितने की ताकद है |

आज की नई दुनिया का विराट रूप है इंटरनेट |

इसकी वजह से मनुष्य के हाथ मे पुरा विश्व आ गया है |

जब चाहे कोई भी चीज आसानी से पुरी हो जाती है |

इंटरनेट एक अल्लादिन के चिराग की तरह है |

जो चाहे search करो कुछ ही second मे हमारे सामने वो information हाजिर हो जाती है |

जब टीव्ही आया था | कई विचारवंतो ने उसे नशा कहा था |

लेकीन इंटरनेट तो नशीला, मादक और प्रभावशाली भी है |

internet अमृत भी है और विष भी |

इससे शिक्षा भी मिलती है और अश्लिलता भी |

internet  ज्ञान का भंडार भी है और विनाश का भी |

की आप उसका इस्तेमाल कैसे करते है |

Internet उसके उपयोगिता पर निर्भर करता है |

लेकीन इसके नुकसान से ज्यादा मुझे मेरी नजर से फायदे ही नजर आते है |

इंटरनेट नेटवर्को का नेटवर्क है | इंटरनेट एक computer का जाल है |

सभी दुनिया के computer एक दुसरे से internet से जुडे हुये है |

इसही हम इंटरनेट कहते है | पुरे computer के जाल के समूह को इंटरनेट कहा जाता है |

आर्मी के बाद कभी नेटवर्किंग वाले ही देश को चलाते है |

ऐसा मै कहू तो ये शायद गलत नही होगा |

इसके लिये मे आपको एक example देता हू | इससे आप कहेंगे जी हा ये बात सही है |

 

Internet kya hai in hindi

 

NSE और BSE ये और इसके जैसे बहुत सारी Exchange पुरी दुनिया मे है |

समज लो technical या फिर मानव निर्मित गलती से इन exchange की website कभी थोडी देर तक बंद हो गई तो |

Investors का कई करोड रुपये का नुकसान हो जाएगा |

कई दिनो तक बंद रही तो कई हजार करोडो का नुकसान हो जाएगा |

इसकी वजह से पुरे world की Economy को धक्का लग सकता है |

क्योंकी ये सब इंटरनेट से एक दुसरे से connect है |

ऐसा कभी होगा नही क्योंकी पहले से ही उन्होने इसकी व्यवस्था कर रखी है |

लेकीन संभावना हो सकती है | इसे हम झुटला नही सकते |

 

 

Internet क्या है what is internet in Hindi

intranet kya hai

 

अभी Lock down का ही देख लो ऐसा किसी ने सोचा था |

की कोरोंना virus की वजह पुरी दुनिया का करोबार थम जाएगा | लेकीन हो गया |

दुनिया का कई जगह शुरू होगा लेकीन इंडिया तो 24 march 2020 से पुरी तरह से लोक down है |

ये हमारे हाथ मे नही है|

हम internet 10-12 सालो से कर रहे है लेकीन आप को कभी ये सवाल जरूर सताता होगा |

ये कैसे चलता है| ये कब शुरू हुवा | इंटरनेट कैसे शुरू हुवा | इसका मालिक कौन है |

इसका जवाब आपको आज इस article मिल जाएगा |

 

History of the Internet in Hindi (इंटरनेट का इतिहास)

 

Second world war के बाद अमेरिका और सोव्हियत यूनियन के बीच cold वार शुरू था |

Economic और military Competition के साथ साथ विज्ञान स्तर पर भी बड़ी Competition थी |

अमेरिका से better संशोधन करने जैसे सोव्हियत यूनियन ठाण ही लिया था |

इसी part के अंतर्गत 4 October 1957 मे सोव्हियत यूनियन ने sputnik नामक satellite लाँच कर दिया |

उसमे वो success भी हो गये | ये Earth से 560 mile दूर गया था |

successfully massage send कर रहा था | इस success की वजह से अमेरिका हिल गया |

सोव्हियत यूनियन हमारे आगे research मे निकल जाएगा ऐसा अमेरिका लगने लगा |

दुसरी  और अमेरिका ने भी research शुरू कर दिया |

 

INTERNET full form ? INTERNET का फुल फॉर्म क्या है?

 

Full-Form of INTERNET in Hindi –

 

Interconnected network – इंटरकनेक्टेड नेटवर्क.

 

अमेरिका ने इसके तहत एक संस्था का निर्माण किया |

उस संस्था का नाम था ARPA आर्पा (Advanced Research Projects Agency) |

ये था इंटरनेट का जन्म स्थान | और ये साल था 1969 | इसीको ही आर्पानेट भी कहा जाता था |

अमेरिका को डर था को रशिया उसका communication center bomb गिराकर destroy न कर दे |

इसके डर से अमेरिका ने पहले 4 center शुरू किये | ये center एक दुसरे से connect किये थे |

रशिया कभी एक destroy भी कर दिया तो 3 center बच जाएंगे |

यही आर्पानेट cold war खत्म होने के बाद अमेरिका ने University को use करने की permission दी |

आर्पानेट यहा बहुत बडा बनता गया |

और ये इतना बडा हो गया की 1969 मे केवल 4 center शुरू थे लेकीन 1995 मे center 50 lakh से भी ज्यादा हो गये |

इसेही हम server कहते है | अभी 50 % से center (server) अमेरिका से बाहर है |

 

इंटरनेट कब शुरू हुआ | इंटरनेट किसने शुरू किया |

growth of internet in hindi

अगर हम इंटरनेट के owner या internet inventors की बात करे तो

Robert E. Kahn और Vint Cerf ये दो नाम सबसे पहले आते है |

लेकीन internet बनाने में सिर्फ दो व्यक्तियों का योगदान नही है |

इसके विकास में कई लोगो ने अपना योगदान दिया है.सर्न के Engineer टीम बर्नर ली ने 1990 मे इंटरनेट शुरुवात की |

सर्न organization ने 30 april 1993 से इंटरनेट की concept सब की लीये publicly open कर दी |

Tim Berners-Lee ने World Wide Web (WWW) का अविष्कार किया |

 

इंटरनेट कैसे काम करता है

अभी जो भी computer एक दुसरे से जुडे है | उन्हे एक unique IP Address होता है |

इस  IP Address  से us computer की पहचान होती है | जैसे हम फोन करते है तो ये एक दुसरे से जुडे होते है |

वैसे ही computer internet से एक दुसरे से TCP/IP के माध्यम से जुडे है | उन्हे ISP service देता है |

इसकी मदत से हम उन्हे एक दुसरे से connect रखने मे मदत करते है |

internet को अपने computer मे cable या फिर वायरलेस के माध्यम से जोडते है |

ये कनेक्शन जब हो जाता है | तब हम internet से connect हो जाते है |

इस प्रकिया को हम ऑनलाइन आना भी कहा जाता है | आज इंटरनेट पर 1.5 Billion live है |

 

Internet
Internet

इंटरनेट कितने प्रकार के है |

structure of internet in hindi

 

Types of internet

types of the internet in Hindi

 

1. LAN लॅन

जब दो या दो से ज्यादा computer या फिर device होते है |

जैसे की hub, ब्रिज, switches, routers एक room, एक building या फिर एक specific campus से जुडे है |

तो उस नेटवर्क को LAN network कहा जाता है |

इसकी मर्यादा की बात की जाये तो एक रूम से लेकर एक यूनिवर्सिटी तक इसका क्षेत्र हो सकता है |

 

2. MAN मॅन

 

जब दो या दो से ज्यादा computer या फिर device जैसे की hub, ब्रिज, switches, routers ये Geographic बहुत दूर है |

लेकीन वे एक ही शहर मे है | तो वो नेटवर्क MAN network कहलाता है |

 

3. WAN वॅन

 

जब दो या दो से ज्यादा computer या फिर device या फिर दो या दो से ज्यादा अलग अलग नेटवर्क Geographic बहुत दूर है |

और अलग शहर मे है | और वो internet से connect है |

तो वो WAN network से जुडा है ऐसा हम कह सकते है |

लॅन का एरिया बहुत कम होने की वजह से खर्चा कम आता है |

लेकीन मॅन और वॅन का एरिया ज्यादा होने की वजह से खर्चा ज्यादा आता है |

क्योंकी इसके लिये शेकडो, हजारो, किलोमीटर की फायबर optic cable का जाल बिछाना पडता है |

पुर शहर या फिर state, country और कभी कभी अलग अलग

country मे भी ocean के भीतर से फायबर optic जाल लगता है |

इस नेटवर्क वजह से ही हमारा internet आज सही सलामत चलता है |

ये थे इंटरनेट के प्राथमिक प्रकार लेकीन आज जो real रूप से use किया जाते है |

और इन words का use generally करते है | हम सब जानते भी है |

इंटरनेट connection के और भी प्रकार है | जिसके बारे हम जानने वाले है |

 

Dial Up connection : – Dial-up connection क्या है

 

सबसे पहले और basic internet connection है |

इस connection मे एक टेलिफोन लाइन बहुत सारे user से connected होती है |

और जिस pc से ये connected होती है उसमे इंटरनेट access होता है |

wire एक मोडेम कनेक्ट होता है |

इस मोडेम से अॅनलॉग सिग्नल को डिजिटल मे convert किया जाता है |

सब एक टेलीफोन नेटवर्क के जारिये success होता है |

ये इंटरनेट सस्ता भी होता है speed मे slow भी |

इसकी जो स्पीड 28k से लेकर 56k तक होती है |

 

DSL Connection – DSL connection क्या है |

 

DSL एक wired कनेक्शन होता है |

ये वायर transitions का काम करती है |

DSL का फूल फॉर्म है – Digital Subscriber Line

जब ये कनेक्शन आपके computer से connect होता है तो इस line से phone बिलकुल फ्री होता है |

इस कनेक्शन की स्पीड 128k से लेकर 8 mbps तक होती है |

 

Fiber optic connection:-

 

ये Fiber Optic Cable direct आपके ऑफिस या फिर घर तक आती है |

fiber optic एक बेहतरीन इंटरनेट कनेक्शन होता है | इसका स्पीड बहुत ज्यादा होता है |

दुसरे कनेक्शन के मुकाबले |और ये कनेक्शन stable, Efficient और Reliable कनेक्शन होता है |

Fiber Optic Cable connection 1 Gbps तक का इंटरनेट स्पीड देने मे सक्षम होते है |

इस Fiber Optic Cable से light से डाटा carry करके electronic signal को रूप भेजती है |

 

 

Wireless connection क्या है

 

सीधी भाषा मे कहा जाये तो ये इसे हम wifi कहते है |

इसमे कोई wire का use नही किया जाता |

ये इंटरनेट से connect होने के लीये रेडियो frequency का use करती है |

इसकी range एरिया से कही से भी access किया जा सकता है |

इसका speed 5mbps से 20 mbps तक होता है |

 

Mobile internet connection : –

 

अभी सबसे ज्यादा use होने वाला इंटरनेट connection है |

अपने मोबाइल पर use किये जानेवाले इंटरनेट को हम मोबाइल इंटरनेट कनेक्शन कहते है |

ये पहले 2G था | 2016 मे Jio ने 3G इंटरनेट शुरू किया था |

इसकी speed 2.0 mbps तक होती थी |

लेकीन अभी सभी लोग 4G internet कनेक्शन का use करते है |

और इसका speed बहुत ज्यादा है |

जो की 100 mbps तक होती है |

लेकीन असल हमे मे 21 mbps तक स्पीड user को मिलती है |

 

मोबाइल Internet computer मे कैसे connect करे |

 

How to connect mobile internet on pc/computer

 

मोबाइल का इंटरनेट computer पर use करने के दो तरिके है |

 

1. cable through : –

 

इसमे आपको internet computer मे connect करणे के  लिये |

अपनी डाटा cable या फिर charger की cable adapter से अलग करके direct computer से connect करे |

फिर मोबाइल के setting मे जाकर more पर क्लिक करो |

बाद मे tethering& portable hotspot पर click करे |

यहा पे आप USB tethering पर क्लिक करना है |

लेकीन हा आपको cable को computer से connect रखना है | तभी ये option work करेगा |

 

2. WIFI through : –

 

इस तरिके से आपको इंटरनेट use करना है तो आपको USB device को purchase करना होगा |

और उसे अपने computer मे install करना होगा |

सिर्फ अपने mobile से hotspot on करना होगा |

वो hotspot direct आपके computer से connect हो जाएगा |

और आपके mobile internet computer से connect हो जाएगा |

 

Internet का उपयोग : –

internet kya hai iska upyog

आज कल इंटरनेट का ज्यादा उपयोग लोग social मीडिया पर active रहने के लिये करते है |

इससे आप मेल send-receive करना | ऑनलाइन जानकारी हासिल करना |

जो चाहे वो जानकारी आप इंटरनेट से हासिल कर सकते है |

इंटरनेट से हम आसानी से Audio, Video, Document को हासिल कर सकते है |

internet से हमं Facebook, whatsapp, Twitter जैसे कोई application को use कर सकते है |

uses of internet in hindi

abhi online Education का trends है |

आज online services, online banking, online shopping,

online recharge, online movies, ticket booking, ये सब इंटरनेट से ही possible होते है |

Video calling भी इंटरनेट की वजह से possible है |

 

Internet के disadvantages : –

  • इसका सबसे बडा नुकसान ये है की इसकी सभी को इंटरनेट की आदत लग गई है |
  • Internet पर कोई गलत video viral होने की वजह से समाज मे विघातक काम होते है |
  • इंटरनेट की वजह से फिशिंग जैसे फ्रौड होते है | इससे लोगो को फसाया जाता है |
  • Hacker कभी कबी computer को hack करके आपका डाटा चुरा ले सकता है |
  • Computer जो virus आता है वो internet के जरिये ही आता है |

India मे इंटरनेट कब शुरू हुवा |

 

History of the internet in India

 

अमेरिका मे 1969 मे ही first लेवल पे इंटरनेट का उसे शुरू हुवा था |

सबसे पहले इंडिया मे ईआरनेट Education और अनुसंधान क्षेत्रो के लिये इसका उपयोग शुरू किया जाता था |

ईआरनेट Indian government के Electronic और भाषा विभाग

तथा युनायटेड नेशन्स development प्रोग्राम का संयुक्त उपक्रम था |

इस टाइम 8000 से अधिक scientist और technician इस ईआरनेट का use किया जाने लगा |

India मे internet की सही शुरुवात 1995 हुई |

14 ऑगस्ट 1995 को व्यावसायिक रूप से

विदेश संचार निगम लिमिटेड ( VSNL ) ने इंटरनेट की सेवा देना शुरू किया |

ये इंटरनेट का अधिकार सबसे पहले Delhi स्थित NIC को दिया गया था |

मुंबई, चेन्नई, कोलकाता, बंगळूर और पुणे मे इंटरनेट के नोड स्थापित किये |

अमेरिका, जपान, इटली आदि country के कंपनी से

समझोता करके देश के प्रमुख शहरो मे इंटरनेट सर्विस देना शुरू किया |

इस समय India मे तीन सरकारी agency internet की सर्विस देती थी |

 

1. दूरसंचार विभाग

2. महानगर टेलिकॉम निगम लिमिटेड

3. विदेश संचार निगम लिमिटेड

 

1991 के उदारीकरण नीती ने इंटरनेट क्षेत्र मे निजी कंपनी के प्रवेश का रास्ता खोल दिया |

और पुरे देश जो इंटरनेट world के 136 country से connected हो गये थे |

1998 मे VSNL के internet provider के अधिकार निकाल के private ISP को दे दिया गये |

22 November 1998 को सत्यम इन्फो को ये internet provide करने अधिकार प्रदान किये गये

 

Article का Conclusion :-

 

Guys मैने आपको यहा इस article मे internet क्या है | ये पुरा बताने की कोशिश की है |

types of internet

इस article मे Internet  क्या है ये आपको समझ गया होगा ये आशा करता हू |

अगर आपको कोई भी doubt है तो आप comment बॉक्स मे पुछ सकते है |

दोस्तो अगर आपको ये article पसंत आया है |

तो आप इसे social मीडिया मे जैसे की Facebook, Twitter, Whatsapp, पे जरूर share करे |

Parmeshwar Thate
Hello, Friends, I Parmeshwar Thate. I am Admin and Founder of Digi-Solution.in.

I am a Post Graduate in Mass Communication and Journalism from North Maharashtra University, Jalgoan (M.H.)

On this website, Here, I will share information related to technology & Entertainment. And I will try to teach you.

You can also follow us on social media.
Parmeshwar Thate on FacebookParmeshwar Thate on InstagramParmeshwar Thate on LinkedinParmeshwar Thate on TwitterParmeshwar Thate on Youtube
Avatar
About Parmeshwar Thate 28 Articles
Hello, Friends, I Parmeshwar Thate. I am Admin and Founder of Digi-Solution.in. I am a Post Graduate in Mass Communication and Journalism from North Maharashtra University, Jalgoan (M.H.) On this website, Here, I will share information related to technology & Entertainment. And I will try to teach you. You can also follow us on social media.

1 Comment

  1. I feel this is among the such a lot important info for me. And i am happy reading your article. But should statement on some normal things, The site style is wonderful, the articles is in reality excellent : D. Good job, cheers

5 Trackbacks / Pingbacks

  1. ठाणे महानगरपालिका भरती - NokariTimes.com
  2. SAMEER Mumbai Recruitment 2020 - NokariTimes.com
  3. Website का D.A. और P.A. कैसे improve करे - Digi- solution
  4. Search Engine क्या है ? ये कैसे काम करता है ? - Digi- solution
  5. Search Engine क्या है ? ये कैसे काम करता है ? - Digi- solution

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*


CommentLuv badge